clr
[
    [  
  [
छवि, वेब पेज और वेब मीडिया के लिए प्रतिलिपि संरक्षण
 

छवि, वेब पेज और वेब मीडिया के लिए प्रतिलिपि संरक्षण

कौपीसेफ़ वेब छवियों के लिए सबसे सुरक्षित कौपी सुरक्षा प्रदान करता है क्योंकि छवि एन्क्रिप्शन और डोमेन लॉक के साथ, आपकी छवियां अपने कर्मचारियों और वेब मास्टर से भी सुरक्षित हैं, और जब वो प्रदर्शन पर होतीं हैं तब वो प्रिंट स्क्रीन और स्क्रीन कैप्चर सॉफ्टवेयर सहित नकल के सभी तरीके से सुरक्षित होतीं हैं. कौपीसेफ़ वेब प्लगइन ही एक तरीका है जो कि स्क्रीन कैप्चर रोक सकता है. अन्य ग्रैब संरक्षण का वादा करने वाले समाधान या तो केवल हौटकीइज को अक्षम बनाती हैं या फ़िर सिर्फ कुछ ज्ञात कैप्चर प्रोग्राम का पता लगाने की कोशिश करती हैं. ऐसी चाल अनुभवहीन और अविवेकी आगंतुकों को मूर्ख बना सकतीं हैं, लेकिन कोई भी स्क्रीन कैप्चर कार्यक्रम के निष्पादन को फ़िर से नाम देकर बड़े आराम से कॉपी कर पाएगा.
  • कॉपी से सुरक्षित छवि और अन्य सभी वेब पेज की सामग्री.
  • प्रिंट स्क्रीन और सभी स्क्रीन कैप्चर सॉफ्टवेयर से सुरक्षित.
  • एनक्रिप्टेड छवियों को ब्राउज़र काशे से प्राप्त नहीं किया जा सकता है.
  • डोमेन लॉक्ड छवियों का इस्तेमाल कहीं और नहीं किया जा सकता है.
  • सर्वर पर संग्रहीत छवियाँ आपके वेब होस्ट से सुरक्षित हैं.
  • छवियों को सहेजा या खरोंचा नहीं जा सकता है.
लोकप्रिय वेब ब्राउज़र में कॉपी का नियंत्रण

अधिकांश वेब ब्राउज़र लोकप्रिय होने के लिए डिजाइन किए ग​ए है और ऐसा करने में वो किसी को भी आसानी से विभिन्न विकल्पों के साथ मीडिया की पहचान करने के साथ कॉपी करने के लिए, कैप्चर करने के लिए, डाउनलोड और दूसरों को आगे दे सकने के लिए साधन उपलब्ध करातें हैं. उपयोगकर्ता अनुकूल साइटों को बनाए रखने के लिए, अधिकांश वेबमास्टर एक उपयोगकर्ता के पसंदीदा वेब ब्राउज़र का प्रवेष खुला छोड़ देतें हैं. नतीजतन, वेब पेज के लिए प्रतिलिपि संरक्षण को लागू करना एक कठिन काम बन जाता है और कोई यह सोचता है कि इसे सिर्फ़ पेज पर कोड डालकर किया जा सकता है तो उसे बिल्कुल समझ नहीं है कि इसमें क्या शामिल है. ब्राउज़र्स स्वाभाविक रूप से वेब पृष्ठों और सर्वर पर कोड से संरक्षित होतें हैं. उनसे एक पृष्ठ की सामग्री के प्रदर्शन में हेरफेर करवाया जा सकता है पर यह ब्राउज़रो के साथ लागू नहीं हो सकता है ना हीं आपके विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ अपने एकीकरण में. एक प्लगइन का उपयोग ही उन संसाधनों में बने रहने का एक मात्र​ रास्ता है जो कि प्रमाणित है और उपयोगकर्ता और कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम दोनों के द्वारा अनुमोदित है.

वेब पेज पर कैप्चर सुरक्षित संरक्षण लागू करना

कौपीसेफ़ वेब प्लगइन ठीक वैसे हीं काम करता है जैसे अन्य ब्राउज़र प्लगइन जैसे की फ्लैश. यह ब्राउज़रों के साथ नहीं मिलता है और उपयोगकर्ताओं को इसे डाउनलोड करने और लगाने की आवश्यकता है, जो यह सुनिश्चित करता है कि उनका हमेशा नवीनतम संस्करण होगा. जब एक संरक्षित पृष्ठ लोड होता है तब प्लगइन सक्रिय हो जाता है और जब पृष्ठ बंद होता है, तो यह निष्क्रिय हो जाता है. जब यह सक्रिय होता है, उपयोगकर्ता प्रिंट स्क्रीन या किसी भी स्क्रीन कैप्चर सॉफ्टवेयर का उपयोग नहीं कर सकते हैं.

छवि एन्क्रिप्शन और डोमेन लॉक

कौपीसेफ़ वेब एन्क्रिप्टेड छवियां डोमेन लॉक का उपयोग कर सुनिश्चित करतीं हैं कि उन्हें केवल अपने वेबसाइट से देखा जा सकता है. आपकी छवियों को आपके डोमेन नाम के आधार पर एल्गोरिथ्म का उपयोग कर एन्क्रिप्टेड किया जाता है जो ये सुनिश्चित करतीं हैं कि आपकी छवियां किसी भी अन्य वेबसाइट से प्रदर्शित ना हो सकें. सर्वर पर संग्रहीत एन्क्रिप्टेड छवियां अपने प्रबंधन और कर्मचारियों सहित सभी से सुरक्षित हैं और अपने वेबमास्टर और डेटा सेंटर कर्मचारियों से भी सुरक्षित हैं.

कौपीसेफ़ वेब सम्मिलित विधि

जिस तरीके का उल्लेख हम "कौपीसेफ़ वेब इन्सर्ट" के रूप में करतें है वो एक वेब पेज से एक बहुत छोटे एन्क्रिप्टेड छवि को जोड़ कर वेब पेज की रक्षा करने के लिए कौपीसेफ़ वेब प्लगइन की क्षमता को जगाने के बारे में है. क्योंकि यह एन्क्रिप्टेड छवि की लोडिंग है जो कि प्लगइन को सक्रिय करता है, छवि प्रदर्शित करने के लिए बस एचटीएमएल जोड़कर बिल्कुल कोई भी वेब पेज प्रतिलिपि संरक्षित हो सकता है.

इसे करने के लिए सिर्फ़ एचटीएमएल के कुछ लाइनों की जरुरत है जिसे किसी भी वेब पेज से इसे बनाने में इस्तेमाल प्रोग्रामिंग भाषा की परवाह किए बिना जोड़ा जा सकता है. कौपीसेफ़ वेब सभी प्रकार के वेब अनुप्रयोगों(एैप्लिकेशन) के साथ अनुकूल है. उदाहरण के लिए, आप वर्डप्रेस, जुमला, र्डूपाल या मूडल का उपयोग करते हो सकतें हैं, जिनमें से प्रत्येक पीएचपी या माई एसक्यूएल आधारित एैप्लिकेशन है जो अपाचे वेब सर्वर पर चल रहा है. या आप कोल्ड फ़्यूजन, डौटनेट या शेयरप्वाइंट विंडोज सर्वर पर चला रहे हो सकतें हैं, इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता है.

जिसका इस्तेमाल आप कौपीसेफ़ वेब इन्सर्ट के लिए करतें हैं वो आपके पसंद के अनुसार कितना भी छोटा और अदृष्ट हो सकता है. उदाहरण के लिए, यह केवल 20 x 20 पिक्सल में देखा जा सकता है या यह 1 x 1 पिक्सल में अदृश्य रह सकता है. लेकिन, आप हमेशा पुष्टि कर सकतें हैं अगर यह ठीक से लोड हुआ है या नहीं और छवि से एक हाइपरलिंक जोड़ कर, आप एक एस्केप प्वाइंट प्रदान कर सकते हैं जैसे की सुरक्षित पृष्ठक्लिक करके छोड़ने और प्लगइन सुरक्षा को निष्क्रिय करने के लिए एक लिंक.

मीडिया के सभी प्रकार के लिए प्रतिलिपि संरक्षण

वेब पेज पर एक छोटे कौपीसेफ़ वेब छवि को प्रदर्शित करके (इन्सर्ट विधि) स्क्रीन रिकार्डर सहित सब कुछ प्रिंट स्क्रीन और स्क्रीन कैप्चर सॉफ्टवेयर से संरक्षित हो जाएगा. इसका मतलब यह है कि आप पूरी तरह से फ्लैश फिल्मों, पीडीएफ दस्तावेजों, एनिमेशन, जावा एैपलेट, 3 डी वस्तुओं सहित किसी भी मीडिया और एएसएफ़, एवीआई, एमपी4 और डबल्युएमवी सहित सभी प्रकार के वीडियो की रक्षा नकल करने से कर सकते हैं जिसे एक वेब पेज पर जोड़ा जा सकता है.

छवि रिकॉर्ड के लिए डेटाबेस एकीकरण

कौपीसेफ़ एन्क्रिप्टेड छवियों को एक जावा एप्लेट या दर्शक के रूप में एैक्टिवएैक्स वस्तु का उपयोग कर प्रदर्शित किया जा सकता है. कुछ टेम्पलेट्स के साथ कोड के उदाहरण सॉफ्टवेयर के साथ दी जाती हैं. चूंकि छवियों में एन्क्रिप्टेड गुण हैं, छवि कनवर्टर उन्हें नाम देता है और और फ़ाइल नाम चौड़ाई और ऊंचाई के आधार पर जानकारी शामिल करता है, क्योंकि इन्हें सामान्य नाम के माध्यम से प्राप्त नहीं किया जा सकता है. इस प्रकार केवल फ़ाइल नाम की जानकारी डेटाबेस में दर्ज की जानी चाहिए, जिसमें से चौड़ाई और ऊंचाई पिक्सल में निकाली जा सके. उदाहरण के लिए, एक विशिष्ट एन्क्रिप्टेड छवि स्टारऔफ़लाईट _0600_0400_सी. क्लास की तरह लग सकती है जहां इसकी चौड़ाई 600 पिक्सल और इसकी ऊंचाई 400 पिक्सल हो सकती है. सी "कौपीसेफ़" का प्रतीक है जबकि "एस" का मतलब है कि छवि सुरक्षित छवि कनवर्टर (मैक और लिनक्स के कंप्यूटरों के लिए उपयुक्त एक अलग एन्क्रिप्शन प्रोग्राम(कार्यक्रम)) का उपयोग कर एन्क्रिप्टेड किया गया था.

प्लगइन इनस्टालर, डाउनलोड और नि:शुल्क अपग्रेड

प्लगइन इनस्टालर सभी लोकप्रिय विंडोज ब्राउज़रों के लिए उपलब्ध हैं. प्लगइन डाउनलोड अपनी खुद की वेबसाइट या एक आर्टिस्टस्कोप सर्वर से उपलब्ध कराया जा सकता है. इनस्टालर और डाउनलोड पृष्ठों को सॉफ्टवेयर के साथ उपलब्ध कराया जाता है ताकि आप उन्हें अपनी खुद के लिए तैयार साइट के लिए अनुकूलित कर सकें. इंटरनेट परिवर्तन के साथ बराबरी में चलने के लिए, प्लगइन अपग्रेड और ग्राहक सहायता नि:शुल्क और असीमित है. जब एक अपग्रेड उपलब्ध होता है, केवल एक बदलाव आपके वेब पेज पर आवश्यक होता है जो संस्करण संख्या है जिसे डिटेक्शन स्क्रिप्ट में इस्तेमाल किया गया है.

विभिन्न पन्नों पर सुरक्षा के स्तर में बदलाव

टास्क बार, मेनू और कीबोर्ड का सीमित उपयोग पूर्ण सुरक्षा में शामिल है. कुछ पन्नों पर आप पूरी सुरक्षा का उपयोग करना चाहते हैं, जबकि वेब पृष्ठों पर और माउस द्वारा नियंत्रित वस्तुओं पर, आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उपयोगकर्ता माउस और कीबोर्ड कुंजी का पूरा उपयोग कर सके. डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स पूरी सुरक्षा है, तो आप बस पृष्ठ के सेटिंग फ़ाइल में पैरामीटर सच से झूठ में बदलने के द्वारा निम्न विकल्प सक्षम कर सकते हैं:
  • कैप्चरसेफ़ प्रिंटस्क्रीन और स्क्रीन कैप्चर सॉफ्टवेयर अक्षम
  • मेनूसेफ़ इंटरनेट एक्सप्लोरर टूल बार मेनू अक्षम करता है
  • कीसेफ़ कीबोर्ड निष्क्रिय कर देते हैं
  • रिमोटसेफ़ दूरस्थ / आभासी कंप्यूटर में प्रदर्शन को रोकते हैं
ऑनलाइन डेमो ऊपर बताए ग​ए प्रत्येक सेटिंग्स के लिए उदाहरण दिखाता है. आपके वेब डिजाइनर भी विंडोज संस्करण, वेब ब्राउज़र का प्रकार और संस्करण के अनुसार उपयोग की अनुमति या नामंज़ूरी मनोनीत कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, एक कंपनी के नेटवर्क में आप अपने वेब पेज उपयोग करने के लिए केवल इंटरनेट एक्सप्लोरर 9 ब्राउज़र, या फ़ायरफ़ौक्स​ या क्रोम के नवीनतम संस्करण का उपयोग करना चाह सकते हैं. या आप विंडोज के सभी पुराने संस्करणों को ब्लॉक करना चाह सकते हैं. जो भी पसंद है, यह केवल अपनी सेटिंग्स फ़ाइल (इन्सर्ट.जेएस) में कुछ मूल्यों को बदलने से हो सकता है. एक ही सेटिंग फ़ाइल कई पृष्ठों के द्वारा साझा किया जा सकता है या आप प्रत्येक पृष्ठ के लिए एक अलग सेटिंग फ़ाइल का उपयोग कर सकते हैं.

कमांड लाईन और छवियों के लिए सर्वर साइड एन्क्रिप्शन

कौपीसेफ़ वेब सॉफ्टवेयर एक जावा का एैप्लिकेशन(अनुप्रयोग) है जिसे कमांड लाइन से स्थानीय रूप से संचालित किया जा सकता है या किसी सर्वर पर लगा कर वेब पृष्ठों के द्वारा सर्वर साइड डीएलएल के माध्यम से अन्य अनुप्रयोगों और सीएमएस समाधान के साथ एकीकरण के लिए नियंत्रित किया जा सकता है. सर्वर साइड इनस्टालेशन आपके साइट के सदस्यों को छवियों को अपलोड करने में सक्षम बना सकतें हैं और उन्हें फ़्लाई पर एन्क्रिप्टेड कर सकते हैं. उन्हें आपके सदस्य डेटाबेस में शामिल भी किया जा सकता है. सभी कौपीसेफ़ वेब लाइसेंसधारियों के अनुरोध पर बिल्कुल तैयार स्क्रिप्ट के नमूने के साथ वेबसाइटों पर इस्तेमाल करने के लिए डीएलएल उपलब्ध हैं जिनकी मेजबानी विंडोज सर्वर पर की जाती है. विंडोज सर्वर 2003, विंडोज सर्वर 2008 और विंडोज अल्टिमेट पर आईआईएस द्वारा समर्थित होने के लिए जाँचा व परखा, डीएलएल नि:शुल्क लेकिन वारंटी के बिना प्रदान किया जाता है.

अधिक जानकारी, मूल्य निर्धारण और ऑनलाइन डेमो के लिए, कृपया यहाँ पर क्लिक करके पेरेंट साइट पर जाएँ.
होम
आर्टिस्टस्कोप के बारे में
आर्टिस्टस्कोप डीआरएम
आर्टिस्टस्कोप आरडीसी
एएसपीएस साइट सुरक्षा
कौपीसेफ़ पीडीएफ़
कौपीसेफ़ वीडियो
कौपीसेफ़ वेब
सहायता








Copy Protect Resources

clr